संप्रषण - काम समाप्त कब होता है और अवकाश कब शुरू होता है?

संचार के आधुनिक तरीकों का धन्यवाद की, कार्यालय अवधि के बाद या छुट्टी पर काम से वियोजित होना लगभग असंभव है। यही कारण है कि ज्यादातर लोग हमेशा "कार्य स्थति" में रहते हैं। इन श्रमिकों की सुरक्षा के लिए, फ्रांस ने इस साल के शुरुआत में "वियोजित करने का अधिकार" कार्यरूप में परिणत किया।

Read this article in: Deutsch, English, Español, Português, हिन्दी

काम से वियोजित होना लगभग असंभव है । केवल टेलीफोन और ईमेल आजकल सामान्य संचार विधियां नहीं हैं । फेसबुक, लिंक्डइन, ट्विटर या ज़िंग जैंसे आधुनिक संचार माध्यमों का सहकर्मियों और पर्यवेक्षकों के साथ बातचीत करने के लिए अधिक से अधिक उपयोग किया जाता है। लेकिन काम कब समाप्त होता है और अवकाश कब शुरू होता है?

यही समस्या है।अधिकांश लोगों को लगता है कि हर समय उपलब्ध रहना आवश्यक है, ऐसा अंतर्राष्ट्रीय GfK अध्ययन द्वारा २२ देशों के २७,००० से अधिक इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के बीच दिखाया गया है। वे लोग वियोजित रहने में सक्षम नहीं हैं, वे निरंतर कार्य स्थिति में हैं और संदेश, कॉल और ईमेल इत्यादि की अपेक्षा करते हैं। पुरे समय ।

हर समय उपलब्ध रहने के मामले मे रूस और चीन कें इंटरनेट उपयोगकर्ता अग्रणी हैं। प्रत्येक देश के सभी उपयोगकर्ताओं से पूछताछ के बाद, ५६% से अधिक लोगों ने इस बयान के साथ सहमति जताई की " मेरे लिए, हमेशा उपलब्ध रहना आवश्यक है, चाहे मैं कही भी रहूँ।" तथा तुर्की में (५३%) और मैक्सिको में (५०%) लोगों ने सहमति जताई हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, ४२% लोग इस कथन से सहमत हैं । हालांकि, कुल मिलाकर ११% लोग पूरे दिन उपलब्ध रहने के लिए बहुत महत्व नहीं देते हैं।

अन्य देशों के मुकाबले, सबसे अधिक लोग जो नहीं मानते हैं कि हर समय उपलब्ध रहना जरूरी है, वो जर्मनी (३४%) में हैं। तथा इंटरनेट उपयोगकर्ताओं में सें जर्मनी के बाद स्वीडन (२८%), कनाडा (२४%) और नीदरलैंड (२३%) आता है।

यद्यपि जर्मन लोगों का कहना है कि उपलब्ध रहना उनके लिए महत्वपूर्ण नहीं है, ऐसा लगता है कि यह एक समस्या है।"Betriebliches Gesundheitsmanagement 2016" के अध्ययन में यह पुष्टि की गई है कि, पुछे गऐ १० में से ३ लोगों के लिये कार्यालय अवधि के बाद निरंतर उपलब्ध रहना या ऑन-कॉल ड्यूटी एक समस्या है ।

फ्रांस ने इस साल के शुरुआत से "वियोजित करने का अधिकार" कार्यरूप में परिणत किया । फ्रांस के लोगों को चौबीसों घंटे उपलब्ध रहने की ज़रूरत नहीं है। सरकार ने ऐसा करने का निर्णय तब लिया जब उन्होने जाना की, कार्य-समय के बाद काम से वियोजित करना कितना ज़रूरी है और डिजिटल उपकरणों के जरिए लगातार डिजिटल उपलब्धता लोगों के लिए कितना मुश्किल हो सकता है।

इस उपाय के साथ, फ्रांस सरकार कई लक्ष्यों का पालन करती है, जैसे बर्नआउट की संख्या को कम करना, कार्य-समय के बाद, सप्ताह के अंत में या उनकी छुट्टियों पर जो कर्मचारि उपलब्ध  नही है उनके दण्ड को रोकना, और कर्मचारियों के संदेश, ईमेल तथा घर पर या छुट्टी पर कॉल पर प्रतिक्रिया करने के मामले में क्षतिपूरक समय समाप्ती का अनुमोदन करना ।

कई बड़ी कंपनियों को यह पता है कि, शिथिलीकृत कर्मचारि लंबे समय तक अधिक उत्पादक और खुश रहतें हैं। डाॅईचे टेलीकॉम सप्ताहांत पर और उनकी छुट्टियों के दौरान अधिकारियों को ईमेल नहीं भेजते है। फोक्सवैगन में, काम शुरु करने के आधा घंटे बाद और काम के समाप्त होने के आधा घंटे पहले  मोबाइल डिवाइस पर ईमेल अग्रेषित किये जाते है।

क्या हमें वास्तव में ऐसे नियम की आवश्यकता है? आपका क्या सोचना है ? आपके देश में कैसे स्थिति है?  

फ्रेंच सीनेट होमपेज पर इस नियम के बारे में अधिक जानें।

क्या आप एक अतिथि लेख लिखने में रुचि रखते हैं? कृपया मुझे  gastbeitrag@alugha.com पर एक ईमेल लिखें ।

इसे पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद!

विल्गेन और अलुघा टीम!

#alugha

#doitmultilingual 

More articles by this producer

This website uses cookies to ensure you get the best experience on our website. Learn more in our privacy policy.